जैश सरगना मसूद अजहर की संपत्तियां जब्त, भारतीय कूटनीति की बड़ी जीत

Total Views : 63

जैश सरगना मसूद अजहर की संपत्तियां जब्त, भारतीय कूटनीति की बड़ी जीत

आतंकी मसूद अज़हर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए फ़्रांस, अमरीका और ब्रिटेन द्वारा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में प्रस्ताव पेश किया गया था जिस पर वीटो कर चीन ने भारत को एक बड़ा झटका दिया था। लेकिन अब फ़्रांस सरकार ने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर की संपत्तियां जब्त करने का फैसला लिया। इसको भारत की एक बड़ी जीत बताया जा रहा है।

इससे पहले भी फ्रांस, अमेरिका और ब्रिटेन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएचसी) में मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए प्रस्ताव पेश किया था, लेकिन चीन ने चौथी बार इस पर अड़ंगा लगा दिया। मसूद अजहर पाकिस्तान में है और 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए फिदायीन हमले का दोषी है।


चीन ने बुधवार रात प्रस्ताव में तकनीकी खामी बताकर इसे रोका। उसने कहा था कि वह बिना सबूताें के कार्रवाई के खिलाफ है। जबकि 10 से अधिक देशों ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया था। मसूद के मामले में चीन के विरोध पर भारत के बाद अमेरिकी ने भी निराशा जताई। अमेरिकी सांसद इलियट एंजेल ने कहा कि चीन और पाकिस्तान को अपने अंतरराष्ट्रीय दायित्व पूरे करने का पर्याप्त मौका मिला है।

चीन के प्रयासों से कामयाबी नहीं मिल रही: अमेरिका

इससे पहले अमेरिकी विदेश विभाग के उपप्रवक्ता रॉबर्ट पलाडिनो ने कहा था कि मसूद अजहर वैश्विक आतंकी घोषित करने के संयुक्त राष्ट्र के दायरे में आता है। अमेरिका और चीन क्षेत्रीय स्थायित्व और शांति लाना चाहते हैं। लेकिन मसूद को आतंकी घोषित करने के प्रयासों को नाकाम करने से यह लक्ष्य हासिल नहीं हो पा रहा। जैश भारत में कई हमलों के लिए जिम्मेदार है। उससे क्षेत्रीय स्थायित्व और शांति के लिए खतरा है।

मनोहर पर्रिकर को श्रद्धांजलि देने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

मायावती को रास नहीं आया कांग्रेस का ऑफर, कहा हम कांग्रेस के साथ गठबंधन में नहीं हैं

क्या गोवा में बनेगी कांग्रेस की सरकार?

अब कौन बनेगा गोवा का मुख्यमंत्री, गठबंधन में दरार?

यूपी में सपा-बसपा पर महेरबान कांग्रेस

Stay Updated

Subscribe

I agree to the terms of the privacy policy