ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने की स्थिति को लेकर असमंजस बरक़रार

Total Views : 245

ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने की स्थिति को लेकर असमंजस बरक़रार

ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से अलग होने की स्थिति को लेकर असमंजस बरक़रार है। बीते सोमवार देर शाम ब्रिटैन की संसद में ब्रेक्ज़िट से जुड़े चार प्रस्तावों पर मतदान हुआ। ब्रेक्ज़िट के लिए आगे क्या किया जाए इससे जुड़े प्रस्तावों पर सांसद एक बार फिर सहमत नहीं हो सके।

ब्रितानी संसद में ब्रेक्ज़िट कैसे किया जाए इसके विकल्प तलाशने की कोशिशें हो रही हैं। संसद के निचले सदन हाऊस ऑफ़ कामंस में यूरोपीय संघ से अलग होने के चार प्रस्तावों पर मतदान हुआ। इनमें कस्टम यूनियन और नॉर्वे जैसी व्यवस्था, ब्रिटेन को सिंगल मार्केट (एक बाज़ार) में बरक़रार रखने पर भी मतदान हुआ। लेकिन किसी भी विकल्प को बहुमत नहीं मिल सका।

संसद में हुआ ये मतदान क़ानूनी तौर पर बाध्यकारी नहीं है, ऐसे में यदि किसी प्रस्ताव को बहुमत मिल भी जाता तो सरकार उसे मानने के लिए बाध्य नहीं होती। इससे पहले प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे के यूरोपीय संघ के साथ ब्रेक्ज़िट की शर्तों को लेकर किए गए समझौतों को दो बार संसद ऐतिहासिक अंतर से नकार चुकी है।

वहीं शुक्रवार को हुए एक और मतदान में संसद उनके अलग होने के समझौते को फिर से नकार चुकी है। अब प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे के पास 12 अप्रैल तक का समय है। उन्हें यूरोपीय संघ से ब्रेक्ज़िट के लिए अतिरिक्त समय लेने या बिना समझौता किए ही अलग होने का फ़ैसला करना है।

चांद पर उतरने से पहले इज़राइल का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच नहीं होगा गठबंधन, केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में फैसला

सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, सभी दल EC को देंगे चंदे का ब्योरा

150 से अधिक पूर्व सैन्य अधिकारियों ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मोदी सरकार पर राजनीतिकरण का आरोप

राहुल की सुरक्षा में चूक? चेहरे पर दिखी लेजर लाइट

Stay Updated

Subscribe

I agree to the terms of the privacy policy